Romantic Shayari

रह न पाओगे कभी भुला कर देखलो ,

यकीन न  आये तो आज़मा के देखलो ,

हर जगह महसूस होगी कमी हमारी ,

अपनी महफ़िल को कितना भी सजा के देखलो ,

 

कितना बेबस है इंसान किस्मत के आगे ,

कितने सच हैं सपने हक़ीक़त के आगे ,

कोई रुकी हुई धड़कन से पूछे ,

क्यों तड़पता है दिल मोहब्बत के आगे

 

चुप रहते हैं की कोई खफा न हो जाये ,

हमसे कोई रुसवा न हो जाये ,

बड़ी मुश्किल से कोई अपना बना है ,

डरते हैं की मिलने से पहले ही जुदा न हो जाये

 

वादे पे वो हमारे ऐतबार नहीं करते ,

जिक्र- ऐ- मोहब्बत हम गवारा नहीं करते ,

हम तो डरते हैं उनकी रुसवाई से ,

और वो सोचते हैं की हम उनसे प्यार नहीं करते

Romatic Shayari

मिल जाते अगर वो बिना दुआ के ,

तो कैसे पता चलता की इन्तजार क्या होता है ,

तड़प रहे हैं किसी की चाहत में ,

तो पता चला की प्यार क्या होता है

 

ज़िन्दगी में आपकी एहमियत बता नहीं सकते ,

दिल में आपकी जगह दिखा नहीं सकते  ,

कुछ रिश्ते अनमोल होते हैं ,

ये हम आपको समझा नहीं सकते

 

उनके चेहरे पे इस कदर नूर है की ,

उनकी याद में रोना भी जरूर है ,

बेवफा भी नहीं कह सकते उनको ,

प्यार तो हमने किया है वो तो बेक़सूर है

 

कुछ रिश्ते यूँ बेनाम होते हैं ,

कहने को अंजान होते हैं ,

न दिल तोड़ने की ख्वाइश , न प्यार  जताने की चाहत ,

बस नजर भर देखने के अरमान होते हैं

 

मेरी हथेली भी तुम अपने पास रखलो ,

जब दुआ मांगो तो इन्हें भी उठा देना ,

ख़ुशी मिले तो अपने हाथ आगे कर देना ,

गम मिले तो मेरी हथेली में थमा देना