ज़िन्दगी की किताब से एक और पन्ना निकल गया

लगी रहे नज़र किनारो पर

कभी तो लहरे आएंगी

न जाने तकदीर के किस

झोके से ज़िन्दगी बदल जाएगी

 

न जियो उसके लिए

जो दुनिया के लिए खूबसूरत हो

जियो उसके लिए

जिससे आपकी दुनिया खूबसूरत हो

 

सिर्फ दो कदम दूर किनारा होगा

सोचो कितना खूबसूरत वो नज़ारा होगा

बस दिल जो कहे उसे करना

फिर देखना जो तुम सोचोगे वही तुम्हारा होगा

 

जिंदगी किसी के लिए नहीं रूकती

बस जीने की वजह बदल जाती है

 

मेरी खामोशियों में भी फ़साना ढून्ढ लेती है

बड़ी शातिर है ये दुनियामजा लेना का

कोई न कोई बहाना ढून्ढ लेती है

 

मशहूर होने पर मगरूर न होना

कामयाबी के नशे में चूर न होना

मिल जाये सब कुछ आपको मगर

इन सब के पीछे है किस का हाथ

ये कभी मत भूलना

 

बातें झोंको के साथ हवा में

जल्द ही फ़ैल जाती है

जरा सम्हाल के बोलना

लोटती है तो बदल जाती है

 

गुलामी की ज़ंजीरो से

स्वतंत्रता की शान अच्छी

हज़ारो रुपया की नौकरी से

चाय की दुकान अच्छी

 

गम न कर ज़िन्दगी बहुत बड़ी है

चाहत की महफ़िल तेरे लिए सजी है

बस एक बार मुस्कुरा के तो देख

तकदीर खुद तुझसे मिलने खड़ी है

 

मैं सुनता हूँ और भूल जाता हूँ

मैं देखा हूँ और याद रखता हूँ

मैं करता हूँ और समझ जाता हूँ

 

 

जब दिमाग कमजोर होता है

परिस्थितियाँ समस्या बन जाती है

जब दिमाग स्थिर होता है

परिस्थितियाँ चुनौती बन जाती है

जब दिमाग मजबूत होता है

परिस्थितियाँ अवसर बन जाती है

 

एक और शाम हो गयी

एक और दिन ढल गया

ज़िन्दगी की किताब से

एक और पन्ना निकल गया

 

हौसला बुलंद कर रास्तो पर चल दे

तुझे तेरा मुकाम मिल जायेगा

बढ़ कर अकेला तू पहल कर

देकना तू काफिला खुद बन जायेगा

 

दर्द अपनाते है पराये कौन

कौन सुनता है और सुनाये कौन

कौन दोहराये वो पुरानी बात

गम अभी सोया है जगाये कौन