Dhoka Shayari

लोग कहते हैं के लड़कियां ज़िन्दगी होती है मौत नहीं,

मगर वो लोग यह क्यों भूल जाते हैं की,

धोखा भी ज़िन्दगी ही देती है मौत नहीं

 

कहाँ कोई ऐसा मिला जिस पर दुनिया लुटा देते,

हर एक ने धोखा दिया किस-किस को भूला देते,

अपने दिल का दर्द दिल में ही दबाके रखा,

करते बयां तो सारी महफ़िल को रुला देते

 

जब आँखें भारी हो जाएँ और याद में मेरी भर आएं,

फिर खुद को धोखा मत देना,

और चुपके चुपके रो लेना

 

चोट खाकर भी ज़ख़्म छुपाया हमने,

ज़हर पीकर भी मुँह ना बनाया हमने ,

ना जाने आज तुम इतना क्यों याद आये,

की नाम लिख लिख कर मिटाया हमने

 

लोग फूलो से मोहब्बत करते है ,

काँटों को किसने याद किया,

लेकिन हम काँटों से मोहब्बत करते है,

क्यों की हमें फूलों ने बर्बाद किया

 

इंसान जानबूझ कर खाता है मोहब्बत में धोखा

धोखा ही मोहब्बत का सिला हो जैसे

धोखा ना देना तुझ पर ऐतबार बहुत है,

ये दिल तेरी चाहत का तलबगार बहुत है,

ना देखे तुझे तो दिखाई कुछ नहीं देता,

क्या करे की तुझसे हमे प्यार बहुत है

 

 

जबसे प्यार में धोखा खाया है,

हर एक से दर लगता है,

अंधेरों की तो आदत नहीं थी हमे,

अब उजालो से भी दर लगता है

 

संसार के सभी लोग धोखा देते है

बस फर्क इतना है की

कभी दुसरो को देते है

और कभी अपने आप को

 

किया है प्यार तो धोखा नहीं देंगे,

आपको आंसूंओं का तोहफा नहीं देंगे,

आप दिल से रोये हमे याद करके,

ऐसी कभी हम आपको मौका नहीं देंगे

 

 

 

जो बात दिल में थी उस से नहीं कही हम ने ,

वफ़ा के नाम से वो भी फरेब कहा जाता

Dhoka Shayari Images

Dhoka ShayariDhoka Shayari